एक बार पीछे मुड़कर तो देख

आगे तोह बड़ना ही है ,
मंजिल को तो पाना ही है ,
बड़ता चल तू ,चलता चलता तू ,
पर एक बार पीछे मुड़कर तो देख।

जीतना चाहता है न तू ,
मंज़िल को पाना चाहता है न तू ,
जीतेगा तू , कभी नहीं हारेगा तू ,
पर एक बार पीछे मुड़कर तो देख।

एक बार पीछे मुड़कर तो देख ,
कुछ लोगों को पीछे छोड़ दिया तूने,
जा, जा पकड़ ले उनका हाथ,
फिर न गिरेगा तू,न थकेगा तू ,
मंज़िल को पा लेगा तू ,
पर एक बार पीछे मुड़कर तो देख।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s