इत्तेफ़ाक़

इत्तेफ़ाक़ केवल इत्तेफ़ाक़ नहीं होता , इत्तेफ़ाक़ तो एक ऐसी होनी होती है , जो , होनी ही होती है।

एक बार पीछे मुड़कर तो देख

आगे तोह बड़ना ही है , मंजिल को तो पाना ही है , बड़ता चल तू ,चलता चलता तू , पर एक बार पीछे मुड़कर तो देख। जीतना चाहता है न तू , मंज़िल को पाना चाहता है न तू , जीतेगा तू , कभी नहीं हारेगा तू , पर एक बार पीछे मुड़कर तो…

बारिश की वह बूँदें

बारिश की वह बूँदें तब भी वैसी थी , बारिश की वह बूँदें आज भी वैसी हैं , अगर कुछ बदला तोह वह हम हैं। उन बूंदों में बिफिकर होकर भीगना , उन बूंदों में बेफिकर होकर उछलना , उन बूंदों में बेफिकर होकर ज़िन्दगी का आनन्द लेना , थी ना हसीन ज़िन्दगी , थे…

सपनों के पीछे

मैं अपने सपनों के उड़ान मैं जो उड़ा , पूरी ताकत से उड़ा , सबको पीछे छोड़ते हुए उड़ा । सपने नजदीक थे , ख़ुशी करीब थी। सब कुछ पा लिया मैंने , सब कुछ जीत लिए मैंने , सबको हरा दिया मैंने। आज मेरे पास सब है , पर फिर भी कुछ नहीं ,…

चलना और चलते जाना

ज़िंदगी का नाम ही है चलना और चलते जाना, चलते जाना उन अनजान रास्तो पर, थकना,गिरकर संभालना पर चलते जाना । अनजान रास्तो पर अनजाने लोगों से मिलना ,कुछ अच्छे लोग कुछ बुरे लोग, अनजान रास्तों पर अपने आप को अकेला पाना पर फिर भी चलते जाना, हिम्मत का हज़ार बार टूटने ,पर फिर भी…

Saw an Angel

On that cold winter morning, When everyone was yawning, Peeking through the shaking twig, My eyes were blessed, For I saw an angel in the pink dress

I ran

I ran , I ran to grab my dream , Wanted to go to till any extreme , The dream looked near , For it was very dear , I got to my dream , I smiled to extreme , The Champagne was popped , The glass was taken from the table top , For…

अंजानी कहानी

कहानी जो हमारी है, वही तुम्हारी है , कहानी जो हमारी है, वही तुम्हारी है , फिर भी यह ऐसी कहानी है , जो इक जैसी होकर भी अंजानी है |  

The Best Gift

You start talking to someone somewhere You keep on talking You talk in the morning You talk in the night You talk like you were waiting for one another Then one day, she said, “Let’s Meet” and The meeting happened,  face to face and the talks go on and on Time to leave now, “We…